AaratiBhajan LyricsHindi Bhajan Lyrics

Sri Bhagavata Bhagavan ki hai aarati| Hindi Bhajan

श्री भगवत भगवान की है आरती
पापियों को पाप से है तारती।

ये अमर ग्रन्थ ये मुक्ति पन्थ
ये पंचम वेद निराला,
नव ज्योति जलाने वाला।
हरि नाम यही हरि धाम यही,
यही जग मंगल की आरती
पापियों को पाप से है तारती॥
श्री भगवत भगवान की है आरती…

ये शान्ति गीत पावन पुनीत,
पापों को मिटाने वाला,
हरि दरशन दिखाने वाला।
यह सुख करनी, यह दुःख हरिनी,
श्री मधुसूदन की आरती,
पापियों को पाप से है तारती॥
श्री भगवत भगवान की है आरती…

ये मधुर बोल, जग फन्द खोल,
सन्मार्ग दिखाने वाला,
बिगड़ी को बनानेवाला।
श्री राम यही, घनश्याम यही,
यही प्रभु की महिमा की आरती
पापियों को पाप से है तारती॥
श्री भगवत भगवान की है आरती…

श्री भगवत भगवान की है आरती,
पापियों को पाप से है तारती।

About Srd Bhakti:

Srd Bhakti – Shreemad Ramanuj Darshan Bhakti Media platform focuses on providing up to date Sanskrit Daily Scriptures, Cultural Spiritual Rituals, Sanskrit Spiritual Library, Spiritual Readings/recitations, and spiritual bhajans in various languages. Srd Bhakti Main focuses on the United States, Canada, Australia, European Countries, India, Nepal & many other countries. With the support of Google Translate & our digital translation service available on our platform, Srd Bhakti supports multi-language translations of our contents. Srd Bhakti makes it easier to digitally read, share, and educate users on the go with our latest Mobile app development & Web Browser surfing.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: