Bhajan LyricsHindi Bhajan Lyrics

माला को कैसे धार आई – Malako Kaise Dhar Aaye

माला को कैसे धार आई, प्यारी बेटी गोदा,
मेरी बेटी गोदा, प्यारी बेटी गोदा…। माला… x2

बडे सवेरे तुलसी लाकर, बनवाई बनमाला ।
नहाने को में गया रे बेटी, पिछे क्या कर डाला ।

नित्यसेवाका नियम लियाथा अब क्या होगा हवाला ।
बटशायी प्रभुजी कि माला पर्सादी कर डाला ।।१।। माला… x2

कैसे मन्दिर जाउँ रे बेटी बिना लिए बनमाला ।
बाला भोली मेरी गोदा, तु ने क्या कर डाला ।
भट्टनाथकी बाडी सुनकर रोया पढ़ी वो वाला ।
धारेंगे प्रभुजी यह माला सन्तन के प्रतिपाला ।।२।। माला… x2

श्रीवैष्णव के दासी गोदा प्रेम के आँसू डाला ।
गोदा की प्रिती पर रीझे प्रभुजी धारी माला ।।३।।
मालाको कैसे धार आई प्यारी बेटी गोदा .. । माला… x2

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: